Thursday, October 21, 2021

कोरोना ठीक होने के बाद भी क्यों निकल रहे हैं बच्चों के आंसू, जानलेवा हो सकते हैं पोस्ट कोविड के ये लक्षण

Must read


देश में कोरोना संक्रमितों के आंकड़े लगातार बढ़ते जा रहे हैं। हालांकि, कोरोना की यह दूसरी लहर सबसे ज्यादा बच्चों को अपनी चपेट में ले रही है। ऐसे में स्वास्थ्य विभाग द्वारा भी सावधान रहने की चेतावनी दी जा रही है। हाल ही में एक शोध हुआ है कि जिसमें यह बात सामने आई है कि कोरोना से ठीक होने के बाद भी बच्चों में लंबे समय तक इसके लक्षण दिखाई दे रहे हैं, साथ ही उनकी सेहत में भी सुधार नहीं हो पा रहा, जिसकी वजह से बच्चे परेशान हैं। तो आइए हम बताते हैं कि 16 साल से कम उम्र के बच्चों में पोस्ट-कोविड के लक्षण क्या हैं।

अधिक थकान: शोध के मुताबिक कोरोना से रिकवर होने के बाद भी बच्चों को बहुत अधिक थकान महसूस हो रही है। जोड़ों में दर्द समेत, हाथों-पैरों, सिर और जांघों में दर्द की वजह से बच्चे परेशान हैं। ऐसे कई मामले सामने आए हैं, जिनमें बच्चों में यह थकान 5 महीने से भी ज्यादा समय तक बनी रही है।

अनिद्रा: कोरोनावायरस से ठीक होने के बाद भी बच्चे नींद ना आने की समस्या से परेशान है। दो से 16 साल तक के बच्चों को यह समस्या सबसे अधिक प्रभावित कर रही है। इसके कारण बच्चों के बौद्धिक क्षमता में कमी भी आ रही है। शोध में यह बात सामने आई है कि कोरोना से ग्रस्त 7 प्रतिशत से ज्यादा बच्चों को नींद से जुड़ी परेशानियां हो रही है।

इसके अलावा बच्चों में कोरोनावायरस को लेकर डर और आइसोलेट होने की चिंता के कारण भी नींद ना आने की समस्या से जूझना पड़ रहा है।

पेट की दिक्कत: कोरोना से रिकवर होने के बाद बच्चों में गैस्टोइंटेस्टाइनल लक्षण भी देखे जा रहे हैं। पाचन तंत्र में दिक्कत समेत तनाव और एंग्जायटी के कारण पेट दर्द की समस्या से भी बच्चे जूझ रह हैं।

मूड स्विंग्स: लंबे समय तक कोरोना से ग्रस्त और आइसोलेट होने के बाद बच्चों में चिड़चिड़ापन जैसी समस्याएं सामने आ रही हैं। शोध में सामने आया है कि 10 प्रतिशत बच्चों की याद्दाश्त को भी कोरोना प्रभावित कर रहा है, साथ ही उन्हें ध्यान लगाने में भी समस्या आ रही है। ऐसे में इन लक्षणों को नजरअंदाज नहीं करना चाहिए।



सबसे ज्‍यादा पढ़ी गई




Source link

More articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Latest article