Thursday, October 21, 2021

सिजेरियन डिलीवरी के बाद पैरों में हो रहा है तेज दर्द? निजात दिलाएं ये उपाय

Must read


गर्भावस्था का दौर हर महिलाओं के लिए बेहद ही खास होता है। इस दौरान औरतों के शरीर में कई तरह के शारीरिक और मानसिक बदलाव भी आते हैं। हालांकि, डिलीवरी के बाद यह सभी समस्याएं दूर हो जाती हैं। लेकिन जो महिलाएं ऑपरेशन के जरिए बच्चे को जन्म देती हैं। उनके लिए डिलीवरी के बाद का समय बेहद ही दर्द भरा होता है। दरअसल, सी-सेक्शन के बाद पैरों का दर्द सहन नहीं हो पाता। इसके कारण महिलाओं को रोजमर्रा के कामों को करने में भी दिक्कत आती है।

सिजेरियन डिलीवरी के बाद क्यों बढ़ती है पैरों में दर्द की समस्या: वैसे तो ज्यादातर डॉक्टर्स नॉर्मल डिलीवरी की ही सलाह देते हैं। लेकिन स्वास्थ्य समस्याओं या फिर प्रेग्नेंसी में कॉम्प्लिकेशन की वजह से महिलाओं को सिजेरियन डिलीवरी भी करवानी पड़ जाती है। ऑपरेशन के कारण पैरों और घुटनों में तेज दर्द जैसी समस्याएं होने लगती है।

दरअसल, अगर ऑपरेशन से पहले नॉर्मल डिलीवरी की कोशिश की गई हो तो लिथोटोमी पॉजीशन के कारण नसों में चोट लग सकती है। इसकी वजह से पैरों में तेज दर्द की समस्या होती है। लेकिन प्रसव के कुछ महीनों बाद ही यह समस्या ठीक भी हो जाती है।

कंपार्टमेंट सिंड्रोम: कुछ महिलाओं का लेबर पेन के दौरान ज्यादा खून बह जाता है या फिर उनका ब्लड प्रेशर लो हो जाता है। इन मामलों में दवाओं की वजह से कंपार्टमेंट सिंड्रोम हो सकता है। इस समस्या में महिलाओं को सर्जरी करवाने तक की नौबत भी आ सकती है।

दर्द से छुटकारा पाने के उपाय: सिजेरियन डिलीवरी के बाद अगर टांगों में दर्द बढ़ जाता है तो इसकी जानकारी डॉक्टर को जरूर दें। इसके अलावा दर्द से छुटकारा पाने के लिए आप कंप्रेशन स्टॉकिंग पहन सकती हैं, इससे खून का सर्कुलेशन नियंत्रित रहता है और नसों में खून नहीं जमता।

डिलीवरी के बाद अपने खाने में प्रोटीन, आयरन और विटामिन-सी युक्त चीजों को जरूर शामिल करें। क्योंकि, ऐसे भोजन से जल्दी रिकवरी हो सकती है। साथ ही बॉडी को एनर्जी भी मिलती है। प्रसव के बाद अगर आपको छाती में दर्द, सांस लेने में तकलीफ और घबराहट जैसी समस्याएं हो रही हैं तो एक बार डॉक्टर की सलाह जरूर लें।

 

 



सबसे ज्‍यादा पढ़ी गई




Source link

More articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Latest article